गद्य पद्य संगम

www.hamarivani.com

सोमवार, 20 अप्रैल 2015

ईश्वर,गुरु और आत्मा (कविता )

ईश्वर भाग्य विधाता ही नहीं बल्कि,
इस सृष्टि के पालनकर्ता, रचनाकार हैं।
सूक्ष्म से लेकर विशालकाय जीवों में,
आत्मा रूप अंश को देते आकार है।


इन छोटे बड़े जीवों को आदि से ही,
सीखने-सीखाने का गुरु देते हैं प्रकार।
नैतिकता की बातें सीखकर ये लोग,
कर लेते हैं अपने जीवन को साकार।


जब प्रार्थना करने से मिल जाता है ज्ञान,
आत्मा के रास्ते मन में बना लेता है आकार।
जब ईश्वर प्रार्थना के जरिए ही आत्मा से,
कर लेता है मिलन हो जाते हैं एक प्रकार ।
----------रमेश कुमार सिंह ♌

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें